‘हिक् इति कृत्वा शब्दायते इति हिक्का’

Repeated involuntary contractions of diaphragm is hiccough. Most common cause is psychogenic (Neurosis, hysteria, sudden laughter, swallowing cold drinks, hot drinks, cold shower)

अधिक तीक्ष्ण व उष्ण पदार्थों के सेवन से gastric mucosa में irritation होती है । जिसके कारण Phrenic nerve stimulate होती है और हिक्का रोग होता है।

निदान :-

1. आहार सम्बन्धी :

  • विदाही, गुरू, विष्टम्भी, रूक्ष, अभिष्यन्दी (दही आदि) पदार्थों का अधिक सेवन, शीतल जल व अन्न ।

2. विहार सम्बन्धी :

  • शीतल स्थान पर रहना, धूल-धुआं व तेज हवा में रहना, अधिक व्यायाम करना, अधिक वजन उठाना, अधिक पैदल चलना, वेगों को धारण करना, अल्प आहार या उपवास रखना ।

सम्प्राप्ति :-

निदान सेवन

वायु का प्रकोप

कफ के साथ मिलकर प्राणवह, अन्नवह व उदकवह स्रोतों में अवरोध

हिक्का रोग की उत्पत्ति

सम्प्राप्ति घटक :-

दोष : कफ + वात (प्राण, उदान)

दूष्य : रस

स्रोतस् : प्राण, अन्न, उदक

स्रोतोदुष्टि प्रकार : अवरोध

भेद :-

  1. अन्नजा
  2. यमला
  3. क्षुद्रा
  4. गम्भीरा (प्राणान्तिकी)
  5. महती (महा)

पूर्वरूप :-

  • गले व छाती में भारीपन
  • मुख का कषाय होना
  • आध्मान

साध्यतासाध्यता :-

साध्य : अन्नजा, क्षुद्रा

असाध्य : व्येपता, गम्भीरा, महा

चिकित्सा-सूत्र :-

  • निदान परिवर्जन
  • स्नेहन-स्वेदन : वक्ष प्रदेश पर सैंधव लवण युक्त तिल तैल का अभ्यंग करें, उसके पश्चात् नाड़ी स्वेदन करें ।
  • वमन : कफ वर्धक भोजन कराकर वमन कराएं ।
  • धूमपान : वमन के पश्चात् उर्ध्व श्वास मार्ग में रुके हुए कफ को पूरी तरह सुखाने के लिए मन:शिलादि से धूमपान करावें।

चिकित्सा :-

  • गर्म जल व गर्म दूध का सेवन शीघ्र हिक्काशामक है।
  • कफवातशामक आहार-विहार व औषध का सेवन कराना चाहिए ।
  • हरीतकी चूर्ण (1-2 gm) मधु के साथ ।
  • गर्म घृत का लवणयुक्त नस्य।

चिकित्सा-सूत्र :-

  • निदान परिवर्जन
  • स्नेहन-स्वेदन : वक्ष प्रदेश पर सैंधव लवण युक्त तिल तैल का अभ्यंग करें, उसके पश्चात् नाड़ी स्वेदन करें ।
  • वमन : कफ वर्धक भोजन कराकर वमन कराएं ।
  • धूमपान : वमन के पश्चात् उर्ध्व श्वास मार्ग में रुके हुए कफ को पूरी तरह सुखाने के लिए मन:शिलादि से धूमपान करावें।

 

 


0 Comments

Leave a Reply

Avatar placeholder

Your email address will not be published. Required fields are marked *